Personality

श्री गुरु नानक देव जी के त्रि-सूत्री सिद्धांत – 12 नवंबर 550वां प्रकाश वर्ष विशेष

– डॉ० नरेंद्र सिंह विर्क भारतीय पंरपरा के अनुसार, जब दुनिया में अन्याय, उत्पीड़न, सामाजिक, आर्थिक और धार्मिक स्थिति अधोगति में जाने लगे तो उस समय दुनिया में कोई अवतार या गुरु आगमन होता है जो दुनिया को पतन से उठाकर, सच्चे गुणों को अपना कर ईश्वर के साथ विलय होने का रास्ता दिखता है। […]

Personality

गाँधी जी का शिक्षा सिद्वान्त – 2 अक्तूबर जयंती विशेष

 – डॉ हिम्मत सिंह सिन्हा गाँधी जी का स्थान विश्व में महानतम विभूतियों में आता है। वह आधुनिक राष्ट्र के जनक कहे जाते हैं। गाँधी जी भारतीय संस्कृति एवं भारतीय परम्परा के एक महान पुरुष माने जाते हैं। वह इस इस युग के महान शिक्षा शास्त्री  थे।  उन्होंने शिक्षा के सभी अंगों पर राष्ट्रवाद के […]

Personality

भारत में भारतीय शिक्षा को पुनर्स्थापित करने वाले : विवेकानंद – 4 जुलाई, पुण्यतिथि विशेष

 – रवि कुमार आज शिक्षा की चर्चा सर्वत्र है । देश भर में जिस प्रकार की शिक्षा पद्धति चल रही है उसका गुरुत्व केंद्र भारत की बजाय यूरोप है । जोकि 19वीं सदी में अंग्रेजों के समय यहाँ लागू की गई और स्वतंत्रता प्राप्ति के पश्चात् भी देश में लागू रही । अंग्रेजों के समय […]

Personality

रवीन्द्रनाथ का शिक्षा दर्शन

रवीन्द्रनाथ टैगोर का बचपन उस समय के धनाढय घर की परंपरा के अनसार ही प्रारम्भ हुआ।  उनकी देखभाल सेवकों द्वारा अधिक की गई। बाद में उन्होने स्वयं उस समय को परिवार के ‘सेवकों’ के निरंकुश शासन के रूप में वर्णित कया। उनके ऊपर जो बंधन लगाए गए, उनमें उन्हे घर कैद-सा लगा।  बच्चों को प्राकृतिक […]